Life status in hindi

Life Status in Hindi

Check Out More Life Stats in Hindi:

अजीब किस्सा है जिन्दगी का, अजनबी हाल पूछ रहे हैं और अपनो को खबर तक नहीं..

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूँ मैं.. मंज़िल से जरा कह दो, अभी पहुंचा नही हूँ मैं..

बुरी आदतें अगर वक़्त पे ना बदलीं जायें, तो वो आदतें आपका वक़्त बदल देती हैं।

क्रोध मूर्खों के सीने में बसता है।

शायद हम ने जिंदगी की कीमत को जाना ही नहीं, वरना किसी के लिए खुद को बर्बाद नहीं करते..

गालिब ने क्या खूब कहा हे, ऐ चाँद तू किस मजहब का हे, ईद भी तेरी और करवा चौथ भी तेरा..

जितनी मोहब्बत मिली सारी बाँट दी दुनिया वालों को, जब मैंने झोली फैलाई तो किसी ने दर्द के सिवा कुछ न दिया..

हर एक लम्हा किया कर्ज जिंदगी का अदा, कुछ अपना हक भी था हम पर वही अदा न हुआ..

जो दो लफ़्हज़ों को ना समझ सका, उसे ज़िन्दगी की किताब क्या देते।

मिली थी जिन्दगी किसी के काम आने के लिए.. पर वक्त बित रहा है, कागज के टुकड़े कमाने के लिए..

पूरी उम्र सीख ना सके जो किताबें पढ़ कर, करीब से कुछ चेहरे पढ़े तो ना जाने कितने सबक सीख लिए।

थोड़ा मैं थोड़ी तुम और थोड़ी सी मोहब्बत, बस इतना काफी है, जीने के लिये..

आदमी अच्छा था, ये शब्द सुनने के लिए मरना पड़ता है..

ना जाने क्यों अधूरी सी रह गई जिंदगी मेरी, लगता है जैसे खुद को किसी के पास भूल आया हूँ..

बचपन की वो बिमारी भी अच्छी लगती थी, जिस में स्कूल से छुट्टी मिल जाती थी।

कहीं बिखरी हुई बाते कही टूटा हुआ वादा, ऐ जिंदगी, बता क्या है तेरा किस्सा क्या है तेरा इरादा..

किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर ईश्वर बैठा है तू हिसाब ना कर..

यूँ ही न अपने मिज़ाज को चिड़चिड़ा कीजिये, कोई बात छोटी करे, तो दिल बड़ा कीजिये।

भूल कर भी अपने दिल की बात किसी से मत कहना, यहाँ कागज भी जरा सी देर में अखबार बन जाता है..

ऐ ज़िन्दगी तोड़ कर हमको ऐसे बिखेरो इस बार; न फिर से टूट पायें हम और न फिर से जुड़ पाओ तुम!

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया, वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी..

तुझको चुन लिया है मैंने ज़िंदगी भर के लिये, मैं कोई बेईमान नहीं कि रोज़-रोज़ ईमान बदलूँ..

फिर से मुझे मिट्टी में खेलने दे ऐ जिन्दगी, ये साफ़ सुथरी ज़िन्दगी, उस मिट्टी से ज्यादा गन्दी है..

जरुरत तोड देती है इन्सान के घमंड को, न होती मजबुरी तो हर बंदा खुदा होता..

हर एक लम्हा किया कर्ज जिंदगी का अदा, कुछ अपना हक भी था हम पर वही अदा न हुआ..

अपनों को दिल में रखो लेकिन दिल में कभी Ego मत रखो..

रिश्ता क्या है ये जानने से अच्छा है इसमें कितना अपनापन है ये महसूस कीजिए।

मुझे 👦 मेरी जिन्दगी प्यारी ❤️️ तो है, मगर तेरी 👧 मुस्कुराहट 🙂 से ज्यादा नही..

तुम्हारी ज़िन्दगी में हम जैसे हजारों होंगे लेकिन हमारी ज़िन्दगी में तुम जैसी एक हो।

ना वो मिलती है ना मैं रुकता हूँ; पता नहीं रास्ता गलत है या मंजिल!

एक दो ✌ साल की सरारत 😈 ओर है भैया, फ़िर तो घरवाले 🏠 गले में टाइ 👔 बांध हि देंगे..

अदाकारी ज़रा सी जेब में रखकर सफ़र करना, अभी इस ज़िंदगी में और भी किरदार जीने हैं..

वक्त एक सा नहीं रहता सुन लो, उन्हें भी रोना पड़ता है जो औरो को रुलाते हैं..

कोन कहता हे मुसाफिर जख्मी नही होते, रस्ते गवाह हे कम्बख्त गवाही नही देते..

कुछ रिश्तों में रूह की गाँठ बन्धी होती है, वही फेरे होते हैं, मोहब्बत से मोहब्बत के..

बस जाएँगे जिस दिन तेरी यादों में, मरना भी उस दिन हमको, जीना लगेगा..

सफ़र उसके 👩 साथ बहुत छोटा था, मगर यादगार 😥 हो गया वो ज़िन्दगी भर के लिए..

जिंदगी 🌏 अगर अपने 💪 हिसाब से जीनी हैं तो कभी किसी के फैन मत ❌ बनो..

अब तो दुआएं भी असर नहीं करती, शायद कोई बददुआ असर कर गयी..

कर्मो से ही पहचान होती है इंसानों की.. अच्छे कपड़े तो बेजान पुतलो को भी पहनाये जाते है।

मेरी बर्बाद ज़िंदगी की सज़ा तुम हो, मर मर के जी रहे हैं वजह तुम हो..

मैंने तुझसे 🙎 मोहब्बत 👫 करना सिखा हे, फिर मुझे 👦 क्या मतलब जिन्दगी में क्या लिखा 📝 हे..

सुबह की वो ख्वाहिशें, शाम तक टाली हैं, कुछ इस तरहा हमने ज़िन्दगी संभाली है..

पहले मौसम ही बदलते थे जंहा में दोस्तों, अब तो इरादों कि तरह लोग भी बदलने लगे हैं..

दो बातें इंसान को अपनों से दूर कर देती हैं, एक उसका अहम और दूसरा उसका वहम..

साँसे थी तो अकेला था.. साँसे गई तो सब आ गए।

मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है, ज़िन्दगी की लेकिन सिर्फ सांसें लेने को ‘जीना’ तो नहीं कहते!

छोड़ ये बात कि मिले ये ज़ख़्म कहाँ से मुझ को; ज़िन्दगी बस तू इतना बता कितना सफर बाकि है!

गुजर गया वक्त जब हम तुम्हारे तल्बगार थे, अब जिंदगी बन जाओ तो भी हम कबूल नही करेंगे..

साला किस्मत भी ऐसी है, की जिस दिन मेरा सिक्का चलेगा न, ठीक उसी दिन सरकार सिक्कों पे रोक लगा देगी..

नर्म लफ़्ज़ों से भी लग जाती है चोटें अक्सर, रिश्ते निभाना बड़ा नाज़ुक सा हुनर होता है।

सुना है तुम्हारी एक निगाह से कत्ल होते हैं लोग, एक नज़र हमको भी देख लो ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती..

अगर आपकी वजह से किसी की ज़िन्दगी में कोई तकलीफ़ आए तो, उसकी ज़िन्दगी से ऐसे निकल जाना चाहिए जैसे कभी उसकी ज़िन्दगी में आए ही नहीं..

तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है, पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..

फकीरों की मौज का क्या कहना साहब, राज-ए-मुस्कराहट पूछा तो बोले, सब तुम्हारी मेहरबानी हे..

सारे सबक 😌 किताबों में 📚 नहीं मिलते 👫 यारों, कुछ सबक ☝ जिंदगी भी 😌 सिखाती हैं..

उसका वादा भी अजीब था जिन्दगी भर साथ निभायेंगे, मैंने भी ये नहीं पुछा की मोहब्बत के साथ या यादों के साथ..

ज़माने तेरे सामने मेरी कोई हस्ती नहीं लेकिन, कोई खरीद ले इतनी भी ये सस्ती नहीं..

ज़रा मुस्कराना भी सिखा दे ज़िन्दगी, रोना तो पैदा होते ही सीख लिया था..

हम रखते है ताल्लुक तो निभाते है जिंदगी भर, हम से बदले नहीं जाते रिश्ते, लिबासो की तरह..

किसी रोज़ याद न कर पाऊँ तो खुदग़रज़ ना समझ लेना दोस्तों, छोटी सी इस उम्र मैं परेशानियां बहुत हैं।

हमसे तो एक जिन्दगी सम्भाली नही जाती, जाने जहां कैसे जीता है यहाँ..

मांगो तो अपने रब से मांगो, जो दे तो रहमत और न दे तो किस्मत, लेकिन दुनिया से हरगिज़ मत माँगना, क्योंकि दे तो एहसान और न दे तो शर्मिंदगी।

कर्मो से ही पहचान होती है इंसानों की.. अच्छे कपड़े तो बेजान पुतलो को भी पहनाये जाते है।

सबके कर्ज़े चुका दूं मरने से पहले ऐसी मेरी नीयत है, मौत से पहले तू भी बता दे ज़िन्दगी तेरी क्या क़ीमत है..

जिस तरह अपनी पेहचान खुद बनाई, उसी तरह में अपनी जन्नत भी खुद बनावुंगा..

अब मेरी जिंदगी की दुआ मांगते हैं लोग, जब मैंने जिंदगी को नजर से गिरा दिया..

इश्क़ कुछ पल के लिए खोने और पाने की कहानी नहीं होती है, बल्कि लुटाने के लिए यह पूरी जिन्दगानी होती है..

अरे किसी के पास कुल्हाड़ी है क्या, जिंदगी काटनी है..

अपनी शिकस्त के लिए किस किस को दोष दूं.. ज़िन्दगी के रंगमंच पर हर किरदार ने हराया है मुझे..

मेरे लफ्जों से न कर मेरे किरदार का फेसला, तेरा वजूद मिट जाएगा मेरी हकिगत ढूंढते ढूंढते..

तेरी नेकी का लिबास ही तेरा बदन ढकेगा ऐ बंदे; सुना है ऊपर वाले के घर कपड़ों की दुकान नहीं होती।

तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है, वरना सीने मे सांसे भी पराई सी लगती है..

आज लग रहा है ऐ जिंदगी तुझे जिये जा रहा हुँ, नशे पे नशा जो आज किये जा रहा हुँ..

बिना लिबास आये थे इस जहां में; बस एक कफ़न की खातिर इतना सफ़र करना पड़ा!

खतरा है इस दौर में, बुजदिलों से दिलेर को. धोखे से काट लेते हैं कुत्ते भी शेर को..

दो गज ही सही मालिक तो हुँ ऐ मौत तुने तो मुझे जमीँदार बना दिया

ये ज़िन्दगी जो मुझे कर्ज़दार करती रही, कभी अकेले में मिले तो हिसाब करूँ..

मंज़िलें तेरे अलावा भी कई है लेकिन, ज़िन्दगी और किसी राह पे चलती ही नहीं..

ऐ खुदा बस इतना सा करम कर दे, जितनी ज़िन्दगी उसके बगैर लिखी है, वो कम कर दे..

जरूरी नहीं कि सारे सबक किताबों से ही सीख, कुछ सबक जिन्दगी और रिश्ते सिखा देते हैं..

सोच गहरी हो जाए तो फैसले कमज़ोर हो जाते है।

जब चलना नहीं आता तो गिरने नहीं देते थे लोग, जब से संभाला खुद को कदम कदम पर गिराने की सोचते है लोग..

जिंदगी का Song ऐसे गाऊंगा की, last Sanse भी कहेगी Once More Once More, थोडा सा तो जी ले मेरे साथ..

ना किस्सों में ना किश्तों में, ज़िन्दगी का मज़ा है सच्चे रिश्तों में।

शतरंज मे वज़ीर और ज़िंदगी मे ज़मीर अगर मर जाए तो खेल ख़त्म समझिए..

सुनो ना जिसे सब जिंदगी कहते है, तुम्हारे बिन उसे क्या कहूँ मैं..

हुस्न वाले वफ़ा नहीं करते, इश्क वाले दगा नहीं करते, जुल्म करना तो इनकी आदत है, ये किसी का भला नहीं करते..

हम उस ऊंचाई पर हे, जहा तुम्हारे सर से ज्यादा उंचाई पर हमारे पांव रहते हे..

जो दिल में शिकवा और ज़ुबान पर शिकायत कम रखते है वो हर रिश्ता निभाने का दम रखते है।

ज़िन्दगी इतनी भी मज़बूर नहीं ए दोस्त। ज़िगर से जियो तो मौत भी जीने की अदा बन जाती है..

हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह, वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..

धुंए की तरह उड़ना सीखिए, जलना तो लोग भी सीख गये..

ख्याल रखा करो अपना, एक ही cartoon है मेरे पास।

न रिश्ता खून का न रिवाज से बंधा है, फिर भी ज़िन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त..

किसकी समजु कीमत ऐ खुदा इस जहां में, तू मिटटी से इंसान बनाते हे और इंसान मिटटी से तुजे

बुलन्दियों को पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी, लेकिन दूसरो को रौंदने का हुनर कहां से लाता..

Check More Life Stats in Hindi on Next Page »

Share on: